Skip to Content

Languages

Ajmer

International Yoga Day Ajmer

International Yoga Day Ajmer1100 लोगों के साथ 14 स्थानों पर हुआ योग

अंतराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योग अभ्यास क्रम का विमोचन अजमेर

Courses offered on International Yoga Dayस्वामी विवेकानन्द ने योग एवं वेदांत के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया तथा अपने दर्शन के माध्यम से मुक्ति के चार मार्ग कर्म, ज्ञान, भक्ति एवं राजयोग का संपूर्ण मानव जाति को संदेश दिया।  योग से केवल शारीरिक ही नहीं मानसिक, बौद्धिक, भावनात्मक एवं आध्यात्मिक विकास संभव है। विवेकानन्द केन्द्र विगत 46 वर्षों से योग के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभा रहा है।

Yoga Prashikshan Satra

Yoga Satra in Ajmerअजमेर ! उत्साह, साहस, धैर्य, तत्वज्ञान एवं दृढ़निश्चय योग के साधक तत्व माने गए हैं और इनसे ही योग की साधना संभव है। आलस्य, व्याधि, संशय, प्रमाद, अविरति, भ्रांति दर्शन ये सभी योग के विक्षेप कहे जाते हैं।

मैदानी खेल कार्यशाला @अजमेर

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर द्वारा लायनेस क्लब अजमेर सर्व उमंग के सहयोग से 8 से 16 वर्ष के आयु के बालक बालिकाओं के लिए मैदानी खेल कार्यशाला  का आरम्भ हुआ।

एकनाथजी फिल्म से हुआ राष्ट्रभक्ति का संचार

विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी के संस्थापक माननीय एकनाथजी के जीवन चरित्र का हुआ जीवन्त प्रदर्शन 

प्रो0 वासुदेव देवनानी एवं अनिता भदेल सहित शहर के गणमान्य जनप्रतिनिधियों एवं सैंकड़ों कार्यकर्ताओं ने पूरे दो घण्टे तक हॉल में देखी फिल्म

'परीक्षा दें हंसते हंसते’ आज से

बच्चों को परीक्षा के भय से मुक्ति दिलाने के लिए विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी द्वारा कक्षा 6 से 12 तक के विद्यार्थियों हेतु ‘‘परीक्षा दें हंसते हंसते’’ योग प्रतिमान कार्यशाला आयोजित की जाएगी। यह कार्यशाला 4 जुलाई से प्रतिदिन सांय 6 बजे से 8 बजे तक भगवानगंज स्थित शहीद अविनाश माहेश्वरी विद्यालय में आयोजित होगी।

अजमेर में विवेकानन्द केन्द्र की योग प्रतिमान कार्यशाला

04/07/2017 18:00
Asia/Calcutta

परीक्षा दें हंसते हंसते’ 4 जुलाई से 

आज के समय में बच्चे पढ़ाई को समझने के बजाय रटना अधिक सरल मानते हैं जिससे उन्हें विषय का पूरा ज्ञान नहीं हो पाता तथा प्रश्नों के उत्तर ढूंढने के लिए पासबुक एवं कुंजियों पर निर्भर रहते हैं किंतु जब परीक्षा में विषय को घुमाकर प्रश्न कर लिया जाता है तो उन्हें जवाब नहीं मिलता तथा इस कारण परीक्षा से उन्हें डर लगने लगता है।

Syndicate content